Home / Ibadat / कुर्आन शरीफ को दुसरी भाषा मे लिखना

कुर्आन शरीफ को दुसरी भाषा मे लिखना

सवाल:

कुरआन ऐ करीम को अरबी के अलावाह लिखना ओर पढना कैसा है.?

जवाब: 

नॉट: कुरआन ए करीम की आयत को हिंदी, गुजराती, इंग्लिश य किसी ज़ुबान में लिखना चारो इमाम के नजदिक हरगिज जाइज नही, कुरआन की जुबान अरबी है, इस लिए अरबी में ही लिखना जरूरी है.

बहोत से लोग गुजराती, हिंदी और इंग्लिश में कुरआन छपवाते है, ओर नेकी का काम समझते है.
जिन लोगो को पढते नही आता उनको चाहिए के आहिस्ता आहिस्ता सीखे, लेकिन अफसोस के आज कारोबार के लिए वक़्त है लेकिन कुरआन सीखने का वक़्त नही.

हाँ, उसको तर्जुमा या तफसीर किसी भी जुबान में लिख सकते है.

  • फतावा रहिमीयाह: ३/१६
  • फतावा महमुदियाह: ३/५११
  • किताबुन नवाजिल: १५/५४

(मुफ्ती) बंदे इलाही कुरैशी गणदेवी
अनुवादक: मव.मकबूल मव.अय्यूब जोगियात (खरोड)

हमारी वेबसाईट को सब्क्राईब जरूर करे

About admin

Check Also

Na Paaki Ki Halat Me Durood Sharif Padhna Kaisa He

Na-Paaki Ki Halat Me Durood Sharif Padhna Kaisa He

Na-Paaki Ki Halat Me Durood Sharif Padhna Kaisa He? Na-Paaki Ki Halat Me Mard Ya …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *